Anushka IAS Join Today For Sure Success
Anushka IASAnushka IASAnushka IAS
(Monday- Saturday)
anushkaiasudaipur@gmail.com
Anushka Marg, Sector 3, Udaipur

गेहूं निर्यात पर प्रतिबंध का अंतरराष्ट्रीय बाजार पर असर

भारत ने गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसका असर अंतरराष्ट्रीय बाजार पर भी पड़ा है। भारत से गेहूं निर्यात पर रोक के बाद सबसे ज्यादा असर उन देशों पर पड़ सकता है, जहां भारत से ज्यादा गेहूं का निर्यात होता था। भारत गेहूं का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है। इसके बावजूद ज्यादा गेहूं का निर्यात नहीं होता, क्योंकि इसका बड़ा हिस्सा देश में ही खप जाता है।
भारत से गेहूं आयात करने वाले प्रमुख देश
देश डॉलर में
बांग्लादेश 299.47
नेपाल 83.23
यूएई 51
श्रीलंका 24.73
अफगानिस्तान 19.03
कतर 16.75
इंडोनेशिया 15.29
ओमान 8.37
मलेशिया 2.54
स्रोत: डीजीसीआइएस 20-21
सरकारी गेहूं खरीद में कमी
खाद्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, इस साल (2022 - 23) गेहूं की सरकारी खरीद 1.95 करोड़ टन रहने का अनुमान है, जो पिछले साल (2021 - 22) के मुकाबले आधे से भी कम है।
पिछले पांच वर्ष में केन्द्रीय पूल में गेहूं की खरीद का विवरण:
# वर्ष गेहूं की खरीद (लाख मीट्रिक टन में)
1 2017-18 308.24
2 2018-19 357.95
3 2019-20 341.32
4 2020-21 389.92
5 2021-22 433.44
केन्द्रीय पूल स्टॉक के लिए भंडारण क्षमता
अपनी भंडारण क्षमता के अलावा, भारतीय खाद्य निगम ने केंद्रीय भंडारण निगम, राज्य भंडारण निगम, राज्य एजेंसियों तथा प्राइवेट पार्टियों से अल्पावधि और निजी उद्यमी गारंटी योजना के तहत भंडारण की जगह किराए पर ली है। भारतीय खाद्य निगम द्वारा नए गोदामों का निर्माण मुख्यतः निजी उद्यमी गारंटी योजना के तहत निजी भागीदारी के माध्यम से कराया जा रहा है।
पिछले दस वर्षों की 1 अप्रेल को भंडारण क्षमता की सूची साथ है:-
वर्ष लाख मीट्रिक टन में
एफसीआइ के पास
भंडारण क्षमता
राज्य एजेंसियों के पास
भंडारण क्षमता
कुल भंडारण
क्षमता
2012 336.04 341.36 677.39
2013 377.35 354.28 731.63
2014 368.90/td> 379.18 748.08/td>
2015 356.63 352.59 709.22
2016 357.89 456.95 814.84
2017 352.71 420.22 772.93
2018 362.50 480.53 843.03
2019 388.65 467.03 855.68
2020 412.03 343.91 755.94
2021 414.70 403.26 817.96

खोजशब्द: गेहूं, निर्यात, डीजीसीआइएस, खाद्य मंत्रालय, गेहूं की खरीद, भारतीय खाद्य निगम, निजी उद्यमी गारंटी योजना, भंडारण क्षमता।